एक बार रात के वक्त श्मशान भूमि के रास्ते से अकेले ही गुज़र रहा था । अचानक

157

एक बार रात के वक्त श्मशान भूमि के रास्ते से अकेले ही गुज़र रहा था । अचानक


गुण्डे से दिखने वाले दो लड़कों ने रास्ता रोका ( शायद लूटने के इरादे से )😳😳
मज़ाक़ के लहजे में बोले —–
इतनी रात को और वो भी अकेले; डर नहीं लगता ?
बहुत डेयरिंग बाज मालूम होते हो !!
मैं सिर्फ़ इतना ही बोला ——–
” भैया, जब ज़िन्दा था, तो बहुत डरता था “।😜😜😜
मां क़सम, वो दोनों दिखे ही नहीं वापस ।😂😂😂😂

Comments are closed.