मध्यप्रदेश इलेक्शन से पहले वोटर लिस्ट में धाँधली

74

भास्कर न्यूज़ में छपी ख़बर के अनुसार वोटर लिस्ट में 5 लाख मृतक और गुमनाम लोगों के नाम पाए गए।बताया ये जा रहा है कि कलेक्टरो द्वारा की गयी जाँच में सामने आया है कि पाँच लाख से अधिक वोटरों का अ ता -पता ही नहीं है। लिस्ट में आए आँकड़े किसी भी चुनाओ के नतीजों को प्रभावित कर सकते हैं।

शिकायत सामने आने पे राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री के सचिव चंद्रशेखर बोरकर से मप्र स्टेट इलेक्ट्रॉनिक डिवेलप्मेंट कॉर्परेशन के एमडी पद का चार्ज वापस ले लिया गया है।

सबसे ज़्यादा गड़बड़ी सागर ज़िले में।

25 हज़ार से अधिक वोटर्ज़ ऐसे हैं,जिनका पता बदल गया है। 9416 वोटरों का जो पता दर्ज हेम वो यह नहीं मिले। मृतकों की संख्या 5114 है। ये नाम नहीं हटाए जाने से ये वोटर लिस्ट में हमेशा बने रहते हैं।

ख़बर के सामने आते ही योतिरदत्या सिंदिया अपने ट्विटर हैंडल पे भाजपा सरकार पे निशाना दागते हुए  लिखते हैं, “लोकतांत्रिक मर्यादाओं को ताक में रख कर भाजपा का लक्ष्य अब सिर्फ सत्ता हासिल करना रह गया हैमुंगावली/कोलारस के बाद पूरे प्रदेश करीब 5 लाख फर्जी मतदाताओं के नाम मतदाता सूची में पाए जाने के बाद इसी साल होने वाले विधानसभा चुनाव के निष्पक्ष होने पर सवालिया निशान खड़े हो गए है।”

प्रदेश में करोड़ मतदाता हैं जिन्मे से १ प्रतिशत मतदाताओं के नाम गड़बड़ होने की जानकारी है।इस पर सीईओ मध्यप्रदेश ने सभी कलेक्टरो को सख़्त हिदायत दी है कि शनिवार शाम तक हर हालत में लिए गए ऐक्शन पे जानकारी भिजवा दें।